UAE ने रचा इतिहास, पहला मं - Study24x7
Social learning Network

Welcome Back

Get a free Account today !

or

Forgot password?

By Registering, you agree to our Privacy Policy and Terms of use.

UAE ने रचा इतिहास, पहला मंगल मिशन HOPE हुआ लॉन्च

Published on 21 July 2020
study24x7
Vipin kumar gangwar
6 min read 0 views
Published on 21 July 2020


सऊदी अरब अमीरात (यूएई) ने हाल ही में जापान के सहयोग से मंगल ग्रह पर अपना अपना पहला इंटरप्लेनेटरी होप प्रोब मिशन शुरू किया. यूएई का मंगल ग्रह के लिए पहला अंतरिक्ष मिशन 19 जुलाई 2020 को जापान के तानेगाशिमा स्पेस सेंटर से लॉन्च हुआ. यूएई का यह मिशन मंगल ग्रह 'होप' नाम से डब किया गया है.

यूएई की स्पेस एजेंसी का कहना है कि होप प्रोब सही तरीके से कार्य कर रही है और लॉन्चिंग के बाद से संकेत भेज रही है. वहीं संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने यूएई के इस मिशन की तारीफ करते हुए कहा है कि यूएई का मार्स मिशन पूरी दुनिया के लिए एक योगदान है. यह अरब का पहला अंतरग्रहीय मिशन है.


पहला अंतरग्रहीय मिशन का समय

अमीरात मार्स मिशन 'होप' को जापानी समयानुसार 6:58:14 पर लॉन्च किया. भारतीय समयानुसार यह मिशन सुबह 3:28 पर लॉन्च हुआ था. इसके साथ ही इस यान की मंगल तक की सात महीने की यात्रा आरंभ हो गई. हालांकि, इसे 15 जुलाई को लॉन्च किया जाना था, लेकिन मौसम खराब होने के कारण इसे कुछ समय के लिए टाल दिया गया.


इस यान में कोई इंसान नहीं


इस यान में कोई इंसान नहीं गया है. इसकी लाइव फीड भी दिखाई गई. इस यान पर अरबी में 'अल-अमल' लिखा हुआ था. इस यान ने दक्षिण जापान के तानेगाशिमा स्पेस सेंटर से उड़ान भरी.


फरवरी 2021 तक मंगल पर पहुंचेगा


एमिरेट परियोजना मंगल ग्रह के लिए उन तीन उड़ानों में एक है, जिसमें चीन से तियानवेन -1 और संयुक्त राज्य अमेरिका से मंगल 2020 शामिल है. नासा के मुताबिक अक्टूबर में, मंगल पृथ्वी से तुलनात्मक रूप से 62.07 मिलियन किलोमीटर दूर होगा. फरवरी 2021 तक यूएई के एकीकरण की 50 वीं वर्षगांठ के अवसर पर 'होप' के मंगल ग्रह की कक्षा में पहुंचने की उम्मीद है.


इस मिशन का उद्देश्य


हालांकि, इस मार्स मिशन का मकसद इस लाल ग्रह के पर्यावरण और मौसम के बारे में सटीक जानकारी इकट्ठा करना है. 'होप' मिशन को अरब जगत में प्रेरणा के एक बहुत बड़े स्रोत के रूप में देखा जा रहा है. उम्मीद है कि इससे संयुक्त अरब अमीरात के नौजवानों और अरब दुनिया के बच्चों का विज्ञान के प्रति रुझान बढ़ेगा.


मंगल के अध्ययन के लिए होप


मंगल के अध्ययन के लिए होप सैटेलाइट अपनी स्थिति भूमध्यरेखीय रखेगा. ग्रह से उसकी दूरी 22 हज़ार से 44 हज़ार किलोमीटर के बीच रहेगी.


रॉकेट जापानी कंपनी मित्सबुशी ने तैयार किया


जो रॉकेट लॉन्च किया गया है उसे मित्सबुशी हैवी इंडस्ट्री ने तैयार किया है. कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया कि हमने H-IIA लॉन्च व्हीकल नंबर 42 अमीरात मार्स मिशन (ईएमएम) के मिशन के होप स्पेसक्राफ्ट को लॉन्च किया है.


study24x7
Write a comment...